AARTI LAXMI

AARTI / AARTI LAXMI JI KI

लक्ष्मी जी की आरती

 

ओह्म जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता,
तुमको निस दिन सेवक, हरी,विष्णु दाता
ओह्म जय लक्ष्मी माता

उमा राम ब्रहाम्मानी, तुम हो जगमाता,
मैया तुम हो जगमाता
सूर्य चनरमा ध्यावत, नारद ऋषि गता
ओह्म जय लक्ष्मी माता

दुर्गा रूप निरंजनी, सुख सम्पति दाता,
मैया सुख संम्पति दाता
जो कोई तुमको ध्याता रीधी सिद्धि धन पाता
ओह्म जय लक्ष्मी माता

जिस घर में तू रहती सब सुख, गुना आता,
मैया सब सुख गुण आता
ताप पाप मिट जाता, मन नहीं घबराता
ओह्म जय लक्ष्मी माता

धुप दीप फल मेवा, माँ स्वीकार करो,
मैया माँ स्वीकार करो,
ज्ञान प्रकाश करो माँ,मोह अज्ञान हरो
ओह्म जय लक्ष्मी माता

महा लक्ष्मी जी की आरती, जो गावे
मैया निस दिन जो गावे
उरानान्दा समता, पाप उतर जाता
ओह्म जय लक्ष्मी माता